ROM क्या है और केसे कार्य करता है – What is ROM in Hindi

0

ROM एक Memory हे जो Smartphone और Computer दोनों में ही use कि जाती है. तो अब आप के मन में ये सवाल होगा की ROM क्या है ? (What is ROM in Hindi)

ROM  कम्प्युटर की प्राथमिक मेमोरी होती हैं जिसकी full form Read only memory है. इसकी full form से ही स्पष्ट हे की सिर्फ डाटा Read किया जा सकता है मतलब उसमे कुछ भी Write Or Modify नहीं किया जा सकता है. क्योकि  Manufactures के द्वारा एक बार ही Write किया जाता हे उसके बाद हम कुछ भी modification नही कर सकते है.

ROM एक स्थाई Memory हे और ROM की size fix नही होती है Technology के अनुसार इनकी size बदलती रहती है.

ROM एक Non-Volatile Memory  हैं जिसका मतलब है, की इसके Data को Erase नहीं किया जा सकता हे  और Power Off  होने के बाद भी Data save रहता है.

ROM की विशेषताएँ

ROM की बहुत सी विशेषताएँ हे जिसमे से कुछ विशेषताओ पर चर्चा करेंगे.

  • ROM एक प्रकार की स्थायी (Pramament) मेमोरी होती हैं.
  • ये computer की सभी Basic Functionality के निर्देशो को स्टोर करके रखता है.
  • ये केवल Read only होता है इसमें कुछ write नही कर सकते है.
  • ROM, RAM की तुलना में सस्ती होती हैं.

ROM के प्रकार – Types of ROM in Hindi

  1. MROM (Masked Read Only Memory)
  2. PROM (Programmable Read Only Memory)
  3. EPROM (Erasable Programmable Read Only Memory)
  4. EEPROM (Electrically Erasable Programmable Read Only Memory)

1) MROM – ये सबसे पहले प्रकार का ROM हे जिसकी full form Masked Read Only Memory है. आज कल इस प्रकार के ROM का use बंद हो गया है क्योकि की ये उस समय बहुत मेहेंगे ओर कम space के आते थे. अब इनकी जगह PROM ने ले ली है.

2) PROM – PROM का पूरा नाम Programmable Read Only Memory  है. यह एक मैमोरी चिप है जिस में केवल एक बार ही प्रोग्राम किया जा सकता है. इसमें एक बार प्रोग्राम करने के बाद फिर उसमें से Data को Erase नहीं कर सकते है, वह Data हमेशा के लिए उस Chip में write हो जाता है.

आजकल PROM का इस्तेमाल नहीं किया जाता है. इसकी जगह EEPROM ने ले ली है.

3) EPROM – EPROM का पूरा नाम Erasable Programmable Read Only Memory  है. EPROM एक non volatile मैमोरी है. इसमें Data को Erase ओर दुबारा write भी  किया जा सकता हे  और Power Off  होने के बाद भी data save रहता है | इसमें डेटा को पराबैगनी प्रकाश के द्वारा erase किया जाता है.

EPROM में से data को delete या programm को दुबारा write करने के लिए हमें एक विशेष के Device का use करते है. जिसे हम PROM programmer कहते है.

इसमें data erase करने के लिए हमे चिप को computer से बहार निकलना पडता है.

PROM के स्थान पर पहले EPROM का इस्तेमाल करते थे. परन्तु आज कल EPROM का प्रयोग भी नहीं किया जाता है. इसकी जगह EEPROM ने ले लिया है.

4) EEPROM – EEPROM का पूरा नाम Electrically Erasable Programmable Read Only Memory है. इसमें भी EPROM की तरह Data को Erase ओर दुबारा write भी  किया जा सकता हे  लेकिन इसमें डेटा को इलेक्ट्रिक चार्ज के द्वारा erase किया जाता है.

इसमें data erase करने के लिए हमे चिप को EPROM की तरह computer से बहार नही निकलना पडता है. computer के अंदर रखे ही हम data erase कर सकते हे.

आज कल EEPROM ने PROM  तथा EPROM की जगह ले ली है.

EEPROM दो प्रकार के होते है

  1.   Serial EEPROM
  2.   Parallel EEPROM

ROM का सार

इस Article में मेने आज आप को ROM क्या है (What is ROM in hindi) और इसकी पूरी जानकारी हिंदी में उपलब्ध करवाई है.

इस Article को मेने आप को simple भाषा में समझाने की कोशिश की है मुझे उम्मीद की आप को ये लेख आपको समझ में आया होगा और कही ना कही useful रहेगा.

अगर आपका कोई इस लेख से सम्बन्धित Doubt हो तो आप comment करके हमे ज़रूर बताये.  और इस लेख से सम्बन्धित आप के कोई विचार हो तो हमे ज़रूर बताये जिससे इस लेख में कुछ  ओर सुधार हो सके.

आप लोगो से एक गुजारिश हे इस लेख को आप आपने मित्र ओर रिश्तेदार के साथ जरूर Share करे ताकि उनको भी इस लेख से फायदा मिले हमें आपके Support की आवश्यकता हे.

Read Also :

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here